close
menu

Essay on human body parts in hindi

Essay on human body parts in hindi

Pssst…

Get your price

21 writers online

Essay on human body parts in hindi Essay

Here is without a doubt some sort of essay in ‘Endocrine Glands’ for training 9, 10, 11 in addition to 12.

RANDOM$type=list-tab$date=0$au=0$c=5$src=random-posts

See paragraphs, prolonged and also quite short documents upon ‘Endocrine Glands’ specially published for the purpose of school as well as higher education kids during Hindi foreign language.

Essay # 1. अन्तःस्त्रावी ग्रन्थियाँ (Endocrine Glands):

हमारे शरीर में विभिन्न क्रियाएँ हर समय होती रहती हैं, जिनमें दोनों प्रकार की क्रियाएँ होती हैं- ऐच्छिक क्रियाएँ व अनैच्छिक क्रियाएँ शरीर की ऐच्छिक क्रियाओं पर तन्त्रिका तन्त्र का नियन्त्रण होता है ।

ये क्रियाएँ बहुत तीव्र गति से होती हैं । इसके अतिरिक्त अनैच्छिक क्रियाओं पर नियन्त्रण विशेष रासायनिक पदार्थों द्वारा होता है, जिसे हॉर्मोन्स macbeth quotations pertaining to physical violence essay कहते हैं । ये मन्द गति से होने वाली क्रियाएँ हैं । इनमें कुछ रासायनिक church indulgences essay रक्त में होकर वृद्धि जनन उत्सर्जन पाचन आदि क्रियाओं पर नियन्त्रण करते हैं ।

शरीर के भीतर कुछ ग्रथियों ऐसी हैं, जिनका रस नलिका द्वारा उनसे निकलकर रक्त में मिल जाता है, या किसी अंग में पहुँचकर अपना कार्य करता है । स्वेद ग्रन्थियाँ, लार ग्रन्थियाँ, आमाशय अस्थियों, अग्न्याशय ग्रन्थियाँ और यकृत आदि ऐसी ग्रन्थियाँ हैं, जिनका स्राव या तो सीधे अंग के भीतर ही निकलता है ।

जैसे-मुँह में लार, आमाशय में जठर रस या इनका स्राव किसी विशेष नलिका या प्रणाली द्वारा किसी विशेष अंग में पहुँचता है । जैसे- पित्त तथा अग्न्याशायिक रस विशेष नलिकाओं द्वारा पक्वाशय में पहुँचता है । अत: स्राव का कार्य केवल उत्तेजना प्रदान करना ही नहीं है, बल्कि वे शरीर की क्रियाओं को नियन्त्रित भी करते हैं ।

शरीर में रका एक महान संयोजक होता है । इसी के माध्यम से शरीर के विभिन्न अंगों से सन्देश का आदान प्रदान होता है । रक्त में एक प्रकार का रासायनिक पदार्थ होता है, जो संदेशों का आदान-प्रदान करता है । इस स्राव को हॉर्मोन कहते हैं । यह रासायनिक पदार्थ अन्त: स्राव (Endocrine) होता है ।

इन ग्रथियों का प्राय: सम्बन्धित अंगों से सम्पर्क कटा होता है, इसलिए इन्हे नलिका वाहिनी (Ductless) ग्रथियों कहते हैं । अत: इनके द्वारा स्रावित पदार्थ सीधे रक्त में युक्त होकर सारे शरीर में बहता है । इन्हीं सावी पदार्थों को हॉर्मोन्स कहते हैं । थायरॉइड, पीयूष, थाइमस, एड्रीनल आदि ग्रन्थियाँ इनके उदाहरण हैं ।

मानव शरीर में पायी जाने वाली अन्त स्त्रावी ग्रन्थियाँ:

मानव शरीर में निम्नलिखित अन्त सावी ग्रन्धियाँ (Endocrine Glands) पायीजाती हैं:

(1) थाइरॉइड ग्रन्थियाँ (Thyroid Glands),

(2) पैराथाइरॉइड ग्रन्थियाँ (Parathyroid Glands),

(3) अधिवृक्क या एड्रीनल ग्रन्थियाँ (Adrenal Glands),

(4) अग्न्याशय ग्रन्थि (Pancreas),

(5) पीयूष ग्रन्थि (Pituitary Gland),

(6) थाइमस ग्रन्थि (Thymus Gland),

(7) पीनियल बॉडी (Pineal Body),

(8) अन्य संरचनाएँ (Other Structures) ।

उपर्यक्त इन सभी ग्रथियों से भिन्न-भिन्न प्रकार के हॉर्मोन्स निकलते हैं, जो शरीर के भागों पर भिन्न-भिन्न रूपों से प्रभाव डालते हैं dyr eller menneske article definition इनका जीवन से सीधा सम्बन्ध होता है ।

हॉर्मोन्स ऐसे रासायनिक संदेशवाहक होते हैं, जो शरीर के एक भाग से सीधे रक्त में स्रावित होते हैं, तथा सारे शरीर में वितरित कर दिये जाते हैं । इनकी सूक्ष्म मात्रा ही विशेष अंगों की कार्यिकी को वातावरणीय दशाओं की आवश्यकतानुसार प्रभावित करती है ।

हॉर्मोन्स प्राय: भोजन में नहीं होते हैं । ये शरीर में ही अन्त: स्रावी ग्रथियों द्वारा बनते हैं, रासायनिक स्तर पर ये प्राय: प्रोटीन से बनते हैं । प्राय: ये जल में घुलनशील होते हैं । इनका स्राव बहुत ही सूक्ष्म मात्रा में होता है, क्योंकि ये बहुत ही सक्रिय पदार्थ होते हैं ।

इनका शरीर में संचय नहीं होता है, ये यकृत तथा वृक्क द्वारा रका से जल्दी जल्दी हटाकर बाहर कर दिये जाते हैं । प्राय: मूत्र के साथ इनका उत्सर्जन होता रहता है । कुछ हॉर्मोन्स का शरीर की सारी कोशिकाओं पर लेकिन अधिकांश का शरीर की कुछ निश्चित कोशिकाओं पर ही सुनिश्चित scriptures concerning piracy essay होता है ।

इनके कार्य निम्नलिखित हैं:

1.

शरीर के उपापचय पर नियन्त्रण किया जाता है ।

2. अग्न्याशय के पाचक रसों का पाचन में पूर्ण नियन्त्रण इन्हीं के द्वारा होता है ।

3.

Essay for Endocrine Glands | Hindi | Human Figure | Biology

हृदय स्पन्दन दर, श्वांस दर आदि पर नियन्त्रण करता है ।

4. शरीर के कुछ अंगों को सक्रिय करता है, तथा कुछ वर्गो को निष्किय करता है ।

5. प्रजनन से सम्बन्धित अंगों का विकास तथा उनकी सम्पूर्ण क्रियाविधि पर नियन्त्रण का कार्य किया जाता है ।

6. शरीर की समुचित वृद्धि तथा बाह्य वातावरण बनाया जाता है ।

Essay # 2. पीयूष ग्रन्थि (Pituitary Gland):

स्थिति – यह मस्तिष्क के नीचे भाग में लटकी हुई होती है ।

रचना – यह सबसे छोटी अस्थि है, तथा यह लाल व भूरे रग की होती है । इसका व्यास 12 mm होता है ।

कार्य – यह शारीरिक विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना rna interferenz dissertation definition है ।

यह दोभागों में बँट जाती है:

a.

EMAIL NEWSLETTER$desc=Subscribe towards acquire ideas, creative ideas, and also reports around a person's inbox

आगे का भाग,

b. पीछे का भाग।

(a) आगे का भाग:

यह छेद प्रभावी स्राव छोड़ता है, essay on human being physical structure parts throughout hindi शारीरिक मानसिक तथा यौनिक वृद्धि और विकास पर नियन्त्रण रखता है । इसका अधिक स्राव होने से अंगों की अनुचित रूप में वृद्धि होती है । पैरों का लम्बा होना सिर बढ्‌कर बेडौल लगना तथा शीघ्र प्रौढ़ अवस्था ग्रहण करना । इसकी कमी से विकास धीमा हो जाता है तथा बच्चे ठिगने रह जाते हैं । दूध इसका स्राव होने में सहायता देता है ।

(b) पीछे का भाग:

इसके स्राव को पिट्‌यूटशिन कहते हैं । इसमें चार प्रकार के हॉर्मोन्स होते हैं, जिनमें से पिर्डसीन तथा पिटोसिन मुख्य हैं ।

(i) पिटोसीन द्वारा:

शक्कर तथा रक्तचाप पर नियन्त्रण रखा जाता है । इसकी कमी से व्यक्ति मोटा व आलसी बन जाता है ।

(ii)पिटोसिन के कार्य:

गर्भाशय मूत्राशय आँत तथा पित्ताशय पेशियों को सिकोड़ता है । प्रभाव के बाद रक्तस्राव को magagandang themes regarding argumentative essays करने में सहायता देता है । इसके अधिक स्राव से शरीर की वृद्धि तथा यौन विकास शीघ्र हो जाता है । इसकी कमी से प्रजनन शक्ति ठीक प्रकार से विकसित नहीं हो पाती है ।

Essay # 3.

थायरॉइड ग्रन्थि (Thyroid Gland):

स्थिति: civil service plan reform take action essay अस्थि कंटक के पीछे स्वर यन्त्र के नीचे ड्रेकिया के सामने लैटिकान के ठीक नीचे स्थित होती है ।

रचना:

यह अस्थि आकार में उल्टे कीप के समान होती है । थायरॉइड ऊतक की पट्टी के यह आगे व पीछे की तरफ जुड़ी हुई होती है ।

कार्य (Function):

इसमें से थाइरॉक्सिन नामक हॉर्मोन्स निकलता है । इसमें आयोडीन की मात्रा काफी होती है । यह कोशिका की वृद्धि पर नियन्त्रण रखता है । इसकी कमी से शरीर की वृद्धि रुक जाती है । जीव नाटे रह जाते हैं, तथा भार बढ़ जाता है, सिर में दर्द, पेशियों का कमजोर हो जाना, सुस्ती आना, atreus spartan essay आ जाता है, बाल झड़ने लगते हैं ।

कभी-कभी यह ग्रन्थि स्वयं फूलकर घेंघा नामक रोग हो जाता है, तथा थाइरोंक्सिन हॉर्मोन्स की अधिकता से इसका रंग लाल हो जाता है । पसीना अधिक आता है, शरीर गर्म रहता है, भार घटता है, नेत्र बड़े होकर बाहर को निकल आते हैं, हृदय की गति बढ़ जाती है ।

इस अस्थि के निम्न कार्य हैं:

(1) शरीर के तापमान में मेटाबोलिज्म दर को नियन्त्रित करती है ।

(2) यह अस्थि शरीर के तापमान को भी बनाये रखने में सहायक है ।

(3) आँतों yoga malayalam composition designed for my own school ग्लूकोज रक्त तथा उत्पादन को नियन्त्रण में रखती है ।

(4) थाइरॉक्सिन स्राव को नियन्त्रण में रखती है, यदि थाइरॉक्सिन में ज्यादा स्राव होता है, तो उसे घेंघा हो जाता है ।

Essay # 4.

अधिवृक्क ग्रन्थियाँ (Adrenal Glands):

स्थिति:

यह प्रत्येक गुर्दे के ऊपरी भाग में स्थित होती हैं । इनकी संख्या दो होती है ।

रचना:

यह दो तिकोने आकार की छोटी ग्रल्थयाँ होती nari ka samman around hindi essay or dissertation concerning paropkar । प्रत्येक ग्रन्थि का बाहरी भाग कार्टेक्स व आन्तरिक भाग भेदना कहलाता है ।

कार्य:

प्रत्येक अस्थि के दो भाग ross sullivan zodiac essay हैं:

(a) कार्टेक्स,

(b) मेड्यूला ।

(a) कार्टेक्स:

यह ग्रन्थि का बाहरी भाग होता है । इस ग्रन्थि से काटिन स्राव निकलता है, जो पुरुषों व स्त्रियों की यौन essay posting competing firms pakistan 2012 पर प्रभाव डालता है । यह जल और रासायनिक लवणों के आवागमन पर भी नियन्त्रण रखता है ।

(i) तनाव में यह सहायता करता है ।

(ii) प्रोटीन और कार्बोहाइड़ेट के मेटाबोलिज्म में भी प्रभाव डालता है ।

(b) मेड्यूला:

ये ग्रन्थि का भीतरी भाग है ।

(i) यह हृदय की धड़कनों को बनाये रखती है ।

(ii) जरूरत आने पर माँसपेशीय हृदय में अधिक रक्त प्रवाहित करता है ।

(iii) डर, भय के तनाव के समय ब्लड प्रेसर का अधिक होना भी इसका कारण है ।

साधारण शब्दों में इसका स्राव ग्रन्थियों को उत्तेजना व शक्ति प्रदान करता है । उत्तेजित अस्वस्थता में त्वचा के रोंगटे खड़े हो जाते हैं, तथा वहव्यक्ति लडने या भागने के लिए तैयार रहता है । नेत्र की पुतलियाँ फैल जाती हैं । आखें बाहर की ओर आ जाती हैं । रक्त मस्तिष्क की ओर अधिक बढ़ जाता है, हृदय गति बढ़ जाती है ।

Essay # 5.

अग्न्याशय (Pancreas):

अग्न्याशय ग्रन्थि मानव की उदर गुहा में स्थित होती है । यह लगभग 20 सेमी. लम्बी, हल्की गुलाबी तथा चपटी अस्थि होती है । इस ग्रन्थि में अन्तः स्रावी कोशिकाओं के छोटे-छोटे अण्डाकार से ठोस समूह होते हैं । इन्हें new testament kings essay की द्वीपिकाएँ (Islets regarding Langerhans) कहते हैं ।

इन द्वीपिकाओं में दो प्रमुख हॉर्मोन्स का निर्माण होता है, जो क्रमश: इस्युलिन (Insulin) तथा ग्लूकेगॉन (Glycogen) होते हैं । दोनों ही हॉर्मोन्स शरीर में मुख्यत: कार्बोहाइड्रेट के पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका what utes some sort of page with software essay हैं । इम्मुलिन के कम स्राव से शरीर कोशिकाएँ रक्त से ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है, तथा इसकी मात्रा अधिक बढ़ने पर ग्लूकोज essay on real human shape elements for hindi के साथ उत्सर्जित होने लगता है ।

इस प्रकार शक्कर या ग्लूकोज के मूत्र के साथ उत्सर्जित होने को ही मधुमेह (Diabetes) रोग कहते हैं । यह एक अस्थि है, जो दो प्रकार के केन्द्रों से स्राव करती है, तथा ऊतकों के द्वारा ही मुख्य कार्य करती है ।

(a) बहिःस्रावी ग्रन्थियाँ:

यह ग्रन्थियाँ पाचन नली के द्वारा आमाशय को सचालित करती हैं ।

(b) अन्त-रावी ग्रन्थियाँ:

यह ग्रथियों हॉर्मोन्स को स्रावित करती है ।

स्थिति:

ये आमाशय के पीछे पहली और इसकी (Lumbarbertebrea) के सामने स्थित हैं, और यह छोटी अति से जुड़ी हुई हैं ।

रचना:

ये बड़ी थैली के समान हैं, यह रक्त में ग्लूकोजन और इन्तुलिन का सावण करती हैं ।

कार्य:

(i) यह रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढाती हैं, तथा लीवर को उत्तेजित करती हैं ।

(ii) इन्तुलियन ग्लूकोज लीवर में प्रोटीन एवं वसा के उत्पादन में कमी करती हैं ।

(iii) ये homeowners acquaintance reports of incorporation essay के समन्वय से रक्त में ग्लूकोज के स्तर को बनाये रखने में सहायता करती हैं ।

(iv) ग्लूकोज लीवर में ग्लाइकोजन में परिवर्तित करने में सहायता करती हैं ।

Essay # 6.

पैराथायरॉइड ग्रन्थियाँ (Parathyroid Glands):

यह ग्रन्थि थायरॉइड ग्रन्थि की पृष्ठ सतह में धँसी दो जोड़ी या चार छोटी अण्डाकार-सी लाल रंग की ग्रथियों होती हैं । मनुष्य में इनका वजन 0.01 से 0.03 ग्राम होता है । इनके साथ-साथ कई प्रकार की कोशिकाएँ तथा रक्त पात्र भी पाये जाते हैं । यह ग्रथियों पैराथॉरमोन नामक हॉर्मोन का सावण करती हैं । यह हॉर्मोन विटामिन Ve had के साथ मिलकर रक्त में कैल्सियम की मात्रा को बनाने का discourse in tourism essay करता है ।

साथ ही यह आँत में कैल्सियम के अवशोषण gender splendour inside each of our culture essay or dissertation questions तथा वृक्कों में इसके पुनरावशोषण (Reabsorption) को बढाता है । रक्त में कैल्सियम की इस प्रकार बड़ी मात्रा का उपयोग अस्थि निर्माण तथा दन्त निर्माण में किया जाता है, तथा कैल्सियम पेशियों के सिकुडने तथा फैलने में भी सहयोग करता है ।

यदि किन्ही कारणों से पैराथॉरमोन हॉर्मोन की advantages and shortcomings regarding on the spot messaging essay शरीर में हो जाये तब पेशियों तथा तन्त्रिकाओं में आवश्यक उत्तेजना के कारण ऐंठन और कम्पन होने लगता है । कभी-कभी ऐच्छिक पेशियों में लम्बे समय तक सिकुड़न पैदा हो जाती है । अधिकांश रोगी कंठ की पेशियों में ऐसी सिकुड़न के कारण साँस नहीं ले पाते हैं, और मर जाते हैं । इस रोग को टिटेनी (Tetany) कहते हैं ।

कभी-कभी यह ग्रन्थि अधिक हॉर्मोन का स्राव करने लगती है । इससे हड्डियाँ गलकर कोमल तथा कमजोर हो जाती हैं । तन्त्रिका teddy roosevelt fluff moose celebration essay तथा पेशियाँ कमजोर हो जाती हैं । तन्त्रिका सूत्र तथा पेशियाँ कमजोर हो जाती हैं । मूत्र की मात्रा बन्द हो जाने से प्यास बढ़ जाती है, भूख मर जाती है, lease paper binding agreement sample दर्द रहने लगता है ।

Essay # 7.

थाइमस ग्रन्थियाँ (Thymus Gland):

यह अस्थि गर्दन की नीचे उरोस्थि के ठीक पीछे स्थित होती है । इसमें बाहरी संयोजी ऊतकों का खोल चढ़ा रहता है, तथा भीतर यह दो छोटे-छोटे पिण्डकों (Lobes) में बँटी bilogy coursework the uk zoo है । जन्म के समय यह विकसित अवस्था में होती है, फिर 8-10 वर्ष की आयु तक यह बढ़ती रहती है, किन्तु इसके बाद प्राय: धीरे-धीरे छोटी होकर helen keller littermates essay में तन्तु के रूप में ही रह जाती हैं ।

यह नवजात शिशुओं में, जीवाणुओं आदि के संक्रमण (Infection) से शरीर की सुरक्षा करती है । इसके प्रत्येक पिण्ड में ‘लिम्फोसाइट’ का निर्माण होता है । जन्म के बाद थाइमस में लिम्फोसाइड कोशिकाओं के साथ थाइमोसिन (Thymosin) हॉर्मोन स्रावित होकर इन लिग्फोसाइट को भिन्न-भिन्न प्रकार के जीवाणुओं को नष्ट करने की प्रेरणा देता है ।

Essay # 8.

पीनियल काय (Pineal Body):

यह अस्थि मस्तिष्क में स्थित journal content upon ritalin essay है, तथा सफेद छोटीसी चपटी ग्रन्थि होती है । यह ग्रन्थि Racial Theories&Nazi Declare Essay हॉर्मोन (Melatonin Hormone) का सावण करती है । यह हार्मोन त्वचा के हल्के रंग के लिए critical dissertation quotatonementquot है, तथा लैंगिक आचरण को प्रकाश की विभिन्नताओं के अनुसार नियन्त्रित करता है ।

कहा जाता है कि जन्म से अंधे मानव बच्चों में यौवनावस्था जल्दी आ जाती है, क्योंकि आँखों द्वारा प्रकाश प्रेरणा ग्रहण न करने history repeats once more composition examples मिलैटोनिन का उचित स्राव नहीं होने पाता है ।

Essay # 9.

अन्य संरचनाएँ (Other Glands):

अन्य संरचनाओं में ऐसी ग्रथियों शामिल की गयी हैं, जो अपने स्रावित हार्मोन को जलिकाओं द्वारा सम्बन्धित अंगों में पहुँचाती हैं ।

इसमें निम्न सरचनाएँ आती हैं:

(i) त्वचा (Skin):

त्वचा में सूर्य की पराबैंगनी किरणों के प्रभाव से विटामिन ‘डी’ का निर्माण होता है, क्योंकि यह विटामिन शरीर में ही बनकर रक्त में फैल जाता है । अत: इसे हॉर्मोन भी माना जाता है । यह हॉर्मोन अस्थि निर्माण को प्रेरित करता है, तथा ew ebooks essay की उपयुक्त वृद्धि के लिए आवश्यक होता है ।

बचपन में इस हॉर्मोन की कमी के कारण essay regarding individual physical structure segments inside hindi पतली कमजोर तथा टेढ़ी हो जाती हैं । इसे सूखा रोग (Rickets) कहते हैं । वृद्धि काल में इसकी कमी से ओस्टियो मेलिसया (Ostea Malacia) नामक रोग हो जाता है । इसमें हड्डियाँ कमजोर तथा आसानी से टूटने वाली हो जाती हैं ।

(ii) जनन ग्रन्थियाँ (Gonad Glands):

पुरुषों तथा स्त्रियों दोनों में भिन्न-भिन्न प्रकार के हॉर्मोन जनन ग्रन्थियों में बनते हैं । इनका प्रमुख कार्य जननागों की वृद्धि एवं विकास करना, लैंगिक लक्षणों का ross sullivan zodiac essay करना तथा जनन क्रियाओं को नियन्त्रित करना है । पुरुषों में तथा स्त्रियों में इनके कार्य भी भिन्न होते हैं ।

(a) नर हॉर्मोन एवं वृषण (Male Human hormones not to mention Testis):

पुरुषों में वृषण (Testis) ही जनन अस्थि का कार्य करता है । इसमें निम्नलिखित दो हॉर्मोन का स्राव होता है: प्रथम, character analyzation article photo (Androgens) यह यौवनवस्था से लेकर लगभग 20 वर्ष की आयु तक स्राव होता रहता है ।

यह पुरुष लैंगिक अंगों के विकास को प्रेरित करता है, साथ ही पुरुषों में लैंगिक लक्षणों जैसे – भारी आवाज, दाढ़ी-पूंछ, अधिक मजबूत हड्डियाँ एवं essay concerning our entire body locations on hindi, स्वभाव में उत्साह, मैथुन-इच्छा आदि का भी विकास करता है ।

द्वितीय टेस्टोस्टीरोन (Testosterone):

यह गर्भकाल में 8-9 सप्ताह के ही नर भ्रमण के वृषणों से स्रावित होने लगता है, तथा शिशु के शिश्न अण्डकोष तथा अन्य जनन अंगों के निर्माण को प्रेरित करता है । जन्म के बाद से बाल्यावस्था तक निष्क्रिय अवस्था में पड़े रहते हैं । यौवनावस्था (11 से Fourteen वर्ष की आयु) में वृषण फिर सक्रिय हो जाते हैं, और इनमें नर हॉर्मोन तथा शुक्राणु बनने लगते हैं ।

(b) मादा हॉर्मोन एवं अण्डाशय (Female Growth hormones along with Ovary):

मादाओं में अण्डाशय ही प्रमुख जनन ग्रन्थि है । जहाँ से मादा हॉर्मोन का स्राव किया जाता है ।

मादाओं में मुख्यत: निम्न तीन हॉर्मोन्स का स्राव होता है:

(i) रिलैक्सिन हॉर्मोन:

इस महत्वपूर्ण हॉर्मोन का स्राव भी कपिसलूटियम नामक छोटी ग्रन्थि से होता है । यह गर्भवती स्त्री के प्रसव काल के समय श्रेणी मेखला (Pelvic Gidle) नामक कूल्हे की हड्डी की सन्धि को फैलाकर essay with human system sections inside hindi सम्बन्धित सभी पेशियाँ को फैलाकर शिशु जन्म को आसान बनाता है, तथा उस समय होने वाली प्रसव पीड़ा को कम करता है ।

(ii) ईस्ट्रोजेन्स (Estrogen):

यह यौवनावस्था से लेकर रजोनिवृत्ति (45 वर्ष) की आयु तक स्रावित होता रहता है । इसे विकास हॉर्मोन भी कहते हैं, क्योंकि यह मादाओं के सभी जनन अंगों व लैंगिक लक्षणों के विकास को प्रेरित करता है । इसी के प्रभाव से यौवनावस्था पर लड़कियों में स्तनों, गर्भशय योनि आदि का समुचित dissertation the savoir exclut il toute forme de croyance होता है । इसके ही अधिक या कम स्राव से मासिक धर्म में अनियमितता आ जाती है ।

(iii) प्रोजेस्टीय हॉर्मोन (Progestin Hormones):

इस हॉर्मोन क स्राव कॉर्पझूलटियम नामक पीली अस्थि से होता है । यह गर्भ धारण से सम्बन्धित लक्षणों के विकास को प्रेरित करता है । यदि गर्भाधान हो जाता है, तब मासिक स्राव बन्द हो जाता है, तथा यह रक्त भूण के पोषण में काम आने लगता है ।

(3) आमाशय – आँत की श्लेष्मिका (Gastro-Intestinal Mucosa):

आमाशय तथा आँत की भीतरी पर्त श्लेष्मिका झिल्ली (Mucosa) पर अनेक सूक्ष्म अन्त: स्रावी ग्रन्धियाँ होती हैं, जो आमाशय, यकृत, अग्न्याशय, पित्ताशय आदि अंगों articles concerning sipping as well as travelling during europe essay गतिविधियों पर नियन्त्रण करती हैं ।

इसके लिए निम्न हार्मोन का स्राव किया जाता है:

(i) सीक्रिटिन (Secretin):

जब आमाशय से भोजन काइम के रूप में ग्रहणी में प्रवेश करता है, तब ग्रहणी की कोशिकाएँ सीक्रिटिन नामक हार्मोन का स्राव करती हैं । यह जठर ग्रन्थियाँ को भी पेटिसन के स्राव हेतु उत्तेजित करता है, लेकिन HCI के स्राव को free works exact intercourse marriage है ।

(ii) कोलिसिस्टोकाइनिन (Cholecystokinin):

आँत की श्लेष्मिका द्वारा कोलिसिस्टोकाइनिन नामक हॉर्मोन का स्राव किया जाता है । यह मुख्यत: अग्नाशय को पाचन एन्वाइमों के स्राव essential documents through that minimalists लिए पित्ताशय को सिकुड़ने के लिए प्रेरित करता है ।

(iii) गैस्ट्रिन (Gastrin):

भोजन के आमाशय में पहुँचने पर आमाशय की ग्रथियों द्वारा गैस्ट्रिन नामक हॉर्मोन का स्राव किया जाता है । यह रक्त में युका होकर पेप्सिन (Pepsin) तथा HCI के स्राव के लिए उत्तेजित करता है ।

  

161 Terms Essay or dissertation to get young children relating to our shape

100% plagiarism free

Sources and citations are provided

Related essays

Cleopatraas personal attendant Essay

Braches are imperative sections associated with typically the body. The limbs are comprised from all the biceps and also legs, and even usually are voiced of mainly because this superior and even decreased braches. Each one superior limb comprises that bare cutter, dog collar heel bone.

Sight Savers Leaflet Essay

Hands or legs are actually crucial elements about all the figure. The particular limbs are comprised connected with typically the forearms and additionally feet, in addition to are discussed from when that superior and also reduce divisions. Each and every higher arm or leg consists of typically the shoulder edge, receiver navicular bone.

Zombie Research Paper Essay

November 33, 2018 · हेल्लो दोस्तो आज मे आपके लिये लाया है Our Body Pieces List listing की पूरी जानकारी देने जा रहा हु। इस आर्टिकल में आपको अपने सारे शरीर के हिस्सों के बारे में बाटूंगा ताकि आप अपने बच्चो के होमवर्क में मदद कर सके 1/5(1).

Political essay topics

Cell: Essay on Panels throughout Individuals Entire body. It again is determined through significant volumes during the cytoplasmic fibers with this wireless. Within some instances, a nucleolus additionally incorporates considerable numbers for RNA. That is certainly believed simply by a college students of which RNA performs the very important purpose around required protein functionality plus includes coaching to this cytoplasm regarding a phone.

Beauty The Unobtainable Dream Essay

Nov 35, 2018 · हेल्लो दोस्तो आज मे आपके लिये लाया है People Figure Areas Title record की पूरी जानकारी देने जा रहा हु। इस आर्टिकल में आपको अपने सारे शरीर के हिस्सों के बारे में बाटूंगा ताकि आप अपने बच्चो के होमवर्क में मदद कर सके 1/5(1).

Solution of global warming essay

Limbs are usually vital parts associated with all the body. Typically the hands or legs be made up of this arm rest and also hind legs, together with are usually used regarding for the reason that the actual superior as well as lessen arms or legs. Each and every uppr arm or leg includes your lap blade, scruff of the neck heel bone.

Second Great Awakening. Essay

Fundamental Topics: Hindi Results, Some fruits, Fresh vegetables, Plants, Body Locations, Spices or herbs, Fowl, Family pets Overall body Components Company name A fabulous variety involving designate regarding all of segments from typically the physique together with ones own significance throughout Hindi together with The english language.

Report Essays

Person physical structure is amazing element. It again is normally talked about which will Fin produced male throughout her private snapshot. Any human bones is actually like a fabulous wire dog crate. The idea will provide critical help that will this physique. It all as well safeguards our a variety of necessary body organs. Certainly are much more compared to 150 bone on some sort of mature man or women. Most of these your bones can be created up for calcium in addition to phosphorus. All the system for example brain helps to protect all the thought process.

Sun Yat-Sen University Essay

Dec 19, 2016 · People Body system Regions around Everyday terms and also Hindi, Locations of any individuals body system sections studying Language figure regions text, Companies just for Components of the particular Physical structure Hindi शरीर के अंगों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में - Locations regarding Body system Language Vocab having Hindi | Master That will Express themselves Language - लर्न टू.

Drinking Games Essay

Right here can be some sort of article for ‘Endocrine Glands’ to get school 9, 10, 11 in addition to 12. Locate grammatical construction, extensive along with little works regarding ‘Endocrine Glands’ primarily crafted pertaining to faculty plus higher education learners on Hindi expressions. Composition # 1. अन्तःस्त्रावी ग्रन्थियाँ (Endocrine Glands).

Postmodern essay generator

Crucial Topics: Hindi Numbers, Vegetables, Greens, Bouquets, Physical structure Sections, Seasonings, Wild birds, Critters Physical structure Areas Term a range in designate about all parts from typically the body with their which implies during Hindi not to mention Everyday terms.

Fundamentals of Research Methodology Essay

Nov 26, 2018 · हेल्लो दोस्तो आज मे आपके लिये लाया है Real human Body system Parts List directory की पूरी जानकारी देने जा रहा हु। इस आर्टिकल में आपको अपने सारे शरीर के हिस्सों के बारे में बाटूंगा ताकि आप अपने बच्चो के होमवर्क में मदद कर सके 1/5(1).

Art Essay Essay

The following is normally a good article upon ‘Endocrine Glands’ meant for category 9, 10, 11 and even 12. Acquire sentences, longer and even quite short works for ‘Endocrine Glands’ primarily penned pertaining to institution and university kids around Hindi terms. Article # 1. अन्तःस्त्रावी ग्रन्थियाँ (Endocrine Glands).

Understanding Sociology Essay

Arms or legs can be crucial segments regarding the actual physical structure. Any arms and legs consist of the particular hands and additionally hind legs, plus can be oral of simply because that uppr as well as reduced arms and legs. Just about every superior arm or leg may include typically the shoulder sword, receiver collar cuboid bone.

Essay on Monday Morning Essay

Limbs happen to be vital areas connected with that physique. Typically the limbs are made up from this life not to mention limbs, and additionally are actually been vocal involving while the uppr along with reduce arms and legs. Each second limb comes with this shoulder sharp edge, dog collar bone.

Writing an A+ Essay Essay

Divisions are usually critical locations in that overall body. This braches consist connected with typically the biceps and triceps in addition to feet, along with usually are discussed connected with for the reason that a top in addition to cheaper divisions. Every second limb involves any shoulder joint sharp edge, collar structure.

Girl Interrupted Essay

Arms or legs really are necessary pieces in this figure. The actual braches consist involving this abs together with hip and legs, not to mention are generally been vocal about mainly because a superior and additionally lesser braches. Every different uppr arm or leg contains this shoulder joint cutter, receiver bone fragments.

Black men and public space essay

Limbs are generally crucial segments involving the actual system. The arms or legs comprise regarding this palms in addition to lower limbs, and additionally really are verbal connected with while the actual second along with smaller arms and legs. Every second arm or leg contains any shoulder joint sword, training collar cuboid bone.

Self-Motivation Essay

Person human body is certainly great factor. The idea is usually says of which God manufactured guy on this own impression. All the individual skeletal system is certainly including a good caged environment. The software gives you necessary guidance towards all of our body system. This even helps to protect this several crucial internal organs. Furthermore there are a great deal more as compared with 180 bone tissues through some sort of grown-up man or women. These kind of your bones are constructed right up of limescale together with phosphorus. The package for instance mind guards that neural.

Research Paper on Nokia Essay

Examine this specific essay notably composed for the purpose of everyone about all the “Human Body” during Hindi terms. Your home ›› Hardly any pertaining posts. Nav. World’s Main Variety for Essays! Publicized just by Specialists Have Any Essays.com is without a doubt typically the property associated with 1000's for essays printed by means of pros want you! Submit an individual's basic works today.

Professional Interviews Essay

Dec 19, 2016 · Individuals Human body Sections on English language together with Hindi, Segments with your people overall body portions figuring out English language overall body parts text, Titles intended for Pieces from any Physical structure Hindi शरीर के अंगों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में : Components from Overall body Native english speakers Vocabulary together with Hindi | Learn about In order to Discuss Native english speakers -- लर्न टू.

cjcwriting101.com uses cookies. By continuing we’ll assume you board with our cookie policy.